थियेटर इन एज्यूकेशन


मैंने नाट्यकला से संबन्धित अपने  विचारों को यहाँ एक जगह पर आपकी सुविधा के लिए सूचीबद्ध किया गया है। 
  1. एक अमेच्योर एक्टर की डायरी - 1 : रटें या रमें
  2. कहानी कोई भी मोड़ ले सकती है
  3. नाटक को पाठशाला से प्रेक्षागृह में निर्देशक बदलता है
  4. लघु नाटिका - सब कुछ सड़क पर...
  5. नाम में मिला होता है अपमान का घूंट
  6. एकल नाटक : उत्तर कामायनी
  7. शो मस्ट गो ऑन
  8. इनके नाम क्या केवल कोड नंबर हैं
  9. सुलभ संगीत कितना सुगम ?
  10. थियेटर एक्सर्साइज़ : ग्रुप डायनामिक्स 1
  11. थिएटर एक्सर्साइज़ ( Theatre Exercise) : Mime and movement - 1
  12. विश्व रंगमंच दिवस : समस्याओं से जूझता अलवर का रंगमंच
  13. नाटक और रटना
  14. नाटक : संभावनाओं का मंच (भाग 1)
  15. नाटक : संभावनाओं का मंच (भाग 2 )
  16. नाटक: संभावनाओं का मंच (भाग 3)
  17. नाटक संभावनाओं का मंच ( भाग 4 )
  18. नाटक संभावनाओं का मंच ( भाग 5 ) : भरत वाक्य
  19. थियेटर ( Theatre) : फ़र्क तो पड़ता है
  20. थिएटर ज़िंदगी के लिए उतना ही ज़रूरी है जितना मॉर्निंग वॉक या वर्जिश
  21. अंकुरजी उवाच : रगमंच जैसी विधा पैरों पर खड़ी नहीं हो सकती।
  22. रंगमंच (Theatre) : वंचित वर्ग की शिक्षा का माध्यम को हमेशा हाशिये पर रखा गया है।
  23. बच्चों का रंगमंच: कहीं भी, कभी भी ...
  24. Theatre : सच को साधने का यन्त्र
  25. नाटक, स्कूली बच्चे और हम !
  26. थियेटर, अभिनेता और दर्शक के बीच लेनदेन भर है... न कम न ज्यादा।
  27. एक्टर बनने की पहली शर्त इंसान होना है

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...